Fire-Hymn Summary by Keki. N Daruwalla

Fire-Hymn Summary by Keki N. Daruwalla

Description

Based PatternBihar Board, Patna
Class12th
StreamArts (I.A.), Commerce (I.Com) & Science (I.Sc)
SubjectEnglish (100 Marks)
BookRainbow-XII | Part- II
TypeSummary
LessonPoetry-8 | Fire-Hymn
Summary TypeShort Summary | 5-Marks
PriceFree of Cost
ScriptIn English & Hindi
Available OnBulls Eye Eng App | Free 100 %
Published OnJolly Lifestyle World
Fire-Hymn Summary by Keki N. Daruwalla

Fire-Hymn Summary

In English
Fire-Hymn Summary

Fire-Hymn” is a nice heart touching poem that is highly composed by an outstanding Indo-Anglian poet Keki N. Daruwalla.

In this poem, the poet has presented a very realistic scene of funeral rites performed after death at the burning ghat where dead bodies of Hinduism are burnt.

One day the poet goes with his father to nearby a burning ghat. There, he sees the unburnt dead body(the half-burnt finger). The red-hot embers still glowing many hours after a dead body has been cremated. Really the sight of that half-burnt dead body in the darkness of night creates the feeling of shock and horror pointing to that dead body.

Father says to him that sometimes fire fails to perform its duty/task. Being a Parsi and the worshiper of fire as a God. The poet is in very much pained at the gratefulness of fire towards its deed. He shocked. Parsi instead of cremating their dead bodies carry it to the tower of silence to put their in.

He was horrified to see such a cruel act. The poet once come to such a ghat to cremate his own newborn child into the fire because there was no tower of silence there and the distance of the tower of silence was a thousand miles away from his residence.

The poet says that burning a dead body is an inhuman act. He regrets doing so because he has consigned his child into the fire. He says that he has committed a sin by doing this inhuman act. At last, he swears that he will never violate the Parsi code again in future.

फायर-हीम सारांश

हिंदी में

फायर-हीम” एक दिल को छूने वाली कविता है जो एक उत्कृष्ट इंडो-एंग्लियन

कवि केकी एन दारुवाला द्वारा रचित है।

इस कविता में, कवि ने जलते हुए घाट पर मृत्यु के बाद किए गए अंतिम संस्कार का बहुत यथार्थवादी दृश्य प्रस्तुत किया है जहां हिंदू धर्म के शवों को जलाया जाता है।

एक दिन कवि अपने पिता के साथ पास के एक जलते हुए घाट पर जाता है। वहाँ, वह असमय मृत शरीर (आधी जली हुई उंगली) को देखता है। शव का अंतिम संस्कार करने के कई घंटे बाद भी लाल गर्म अंगारे चमकते रहते हैं। वास्तव में रात के अंधेरे में उस आधे जले हुए शव की दृष्टि उस शव की ओर इशारा करते हुए सदमे और डरावनी भावना पैदा करती है।

पिता उससे कहते हैं कि कभी-कभी आग अपना कर्तव्य / कार्य करने में विफल हो जाती है। एक भगवान के रूप में पारसी और अग्नि के उपासक होने के नाते कवि अपने काम के प्रति आग की कृतज्ञता पर बहुत अधिक पीड़ा में है। वह चौंक गया। पारसी अपने शवों का अंतिम संस्कार करने के बजाय उसे मौन के टॉवर तक ले जाते हैं।

वह इस तरह के क्रूर कार्य को देखकर भयभीत था। कवि एक बार अपने स्वयं के नवजात बच्चे का अग्नि संस्कार करने के लिए इस तरह के घाट पर आया था क्योंकि वहाँ कोई tower of silence नहीं था और मौन की मीनार की दूरी उसके निवास से एक हजार मील दूर थी।

कवि कहते है कि शव को जलाना अमानवीय कृत्य है। उसे ऐसा करने का पछतावा है क्योंकि उसने अपने बच्चे को आग में जला दिया। उसका कहना है कि उसने यह अमानवीय कृत्य करके पाप किया है। अंत में, वह शपथ लेता है कि वह भविष्य में फिर से पारसी कोड(धर्म) का उल्लंघन नहीं करेगा।


Quick Links


5-Marks Summary

You may like this

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!