Sweetest-Love-I-Do-Not-Goe-Summary

Sweetest Love I Do Not Goe Summary

Description

Based PatternBihar Board, Patna
Class12th
StreamArts (I.A.), Commerce (I.Com) & Science (I.Sc)
SubjectEnglish (100 Marks)
BookRainbow-XII | Part- II
TypeSummary
LessonPoetry-1 | Sweetest Love I Do Not Goe
Summary TypeShort Summary | 5-Marks
PriceFree of Cost
ScriptIn English & Hindi
Available OnBulls Eye Eng App | Free 100 %
Published OnJolly Lifestyle World
Sweetest Love I Do Not Goe Summary by John Donne

Sweetest Love I Do Not Goe Summary

In English
Sweetest Love I Do Not Goe Summary

The Poem “Sweetest Love I Do Not Goe” is a love poem, which has been composed by the poet John Donne. In this present poem, the poet beautifully expresses the feelings of love.

When lovers depart from each other, they show the passion of love. The poet desires to depart from his beloved not because he has become fed with her or hopes to get a fitter love.

He wants to leave his beloved because he knows as well that death will certainly part them away. The poet assures his beloved that he will come back like the sun comes everyday. The poet promises his beloved that his returning will be faster than that sun. Finally asserts that those who truly love each-other are neither be parted nor dead. Ultimately meet in heaven after their physical death.

मेरी प्रियतमा मैं तुमसे दूर नहीं जाता सारांश

हिंदी में

Sweetest Love I Do Not Goe” एक प्यार कविता हैं, जिसे कवि जॉन डॉने द्वारा रचित किया गया हैं | इस कविता में कवि जॉन डॉने ने बहुत ही सुन्दर तरीके से प्यार के ऐहसास का वर्णन किया हैं |

जब दो प्रेमी एक दूसरे से अलग होते हैं तो वे दोनों अपने पागलपन को दर्शाते हैं या दिखाते हैं | कवि की इक्षा अपनी प्रेमिका से दुर जाना इसलिए नहीं हैं कि वे अपनी प्रेमिका से उब्ब गए हैं या फिर वे उनसे झूठा प्यार करते हैं |

वह अपनी प्रेमिका से इसलिए दूर होना चाहते है क्योंकि वे अच्छी तरह से यह जानते हैं कि मौत एक दिन उन दोनों को एक दूसरे से जुदा कर देगी तो अकेले कैसे जीवन जीते है उसका अनुभव उन दोनों को हो जाएगा | कवि अपनी प्रेमिका को ये भरोसा(आश्वासन) दिलाते है कि वे जल्द ही वापस आयेंगे जैसे कि सूर्य प्रतिदिन आता हैं | कवि अपनी प्रेमिका से यह वादा करते हैं कि उनकी जो वापस लौटने कि जो गति है वो उस चमकते हुए सूर्य से भी तेज हैं | आख़िरकार कवि इस बात पर जोर देते हैं कि वे लोग, जो एक-दूसरे से सच्चा प्यार करते हैं, वे कभी भी एक दूसरे से जुदा नहीं होते है और न ही कभी मरते हैं बल्कि अंत में उनकी मिलन स्वर्ग में होती हैं |


Quick Links


5-Marks Summary

You may like this

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *